FANDOM


विज्ञान के क्षेत्र में भी भारत अनुकरण तो कर रहा है, पर मौलिकता की अभी कमी है. जैसा कि अब्दुल कलाम साहब भी कहते हैं, " हम कोई प्रौद्योगिकी हासिल करने वाले कभी पाँचवे देश होते हैं, कभी तीसरे; पर वह दिन कब आयेगा जब हमारा राष्ट्र कोई नयी चीज़ बनाने वाला पहला राष्ट्र होगा?"

बात यह नहीं है कि भारतीय नया सोच नहीं सकते. बात यह है कि विद्यार्थी जीवन के प्रारम्भ से ही उसकी हर सोच को मारा जाता है, निरुत्साहित किया जाता है. प्रोत्साहन भी मिलता है तो संसाधन नहीं मिलते, संसाधन मिलते हैं तो उचित मार्गदर्शन नहीं मिलता.

नवगुरुकुल इन्हीं कमियों को पूरा करने का एक जीवन्त प्रयास है.