FANDOM


'नवगुरुकुल' यह नाम उस मनीषी का प्रसाद है जो हिन्दी के सर्वकालिक श्रेष्ठ कालजयी कथाकार कहे जाते हैं. संस्थापकों के विशेष आग्रह पर कालजयी कथाकार एवम् मनीषी आचार्य नरेन्द्र कोहली के द्वारा यह नामकरण सन २००५-६ के लगभग किया गया.

नव गति, नव लय, ताल छंद नव

नवल कंठ, नव जलद मन्द्र-रव

नव युग के नव विहग वृन्द को

नव पर नव स्वर दे!

- सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'


'नव' शब्द के दो अर्थ हैं : नवीनता एवं परिपूर्णता. [१] नवगुरुकुल की शिक्षा पद्धति बिलकुल नवीन एवं आधुनिक है, भले ही इसका आधार हमारी प्राचीन संस्कृति है. अतः 'नव' गुरुकुल का अर्थ है एक आधुनिक गुरुकुल; जहां गुरुकुल जैसा समर्पित माहौल तो है, पर सुविधायें आज की आधुनिक जीवन शैली के अनुकूल हैं. एक बात पर और ध्यान दें. दशमलव पद्धति में गणित के अंकों में नव(९) पूर्ण अंक माना जाता है. अतः 'नव' गुरुकुल का एक अर्थ पूर्णता की और ले जाने वाला गुरुकुल भी है.

'नव' को देखने के बाद अब 'गुरुकुल' को देखें.

’गु’ शब्दस्तु अन्धकारः ’रु’ शब्दस्तु तन्निवारकः अन्धकार निरोधत्वात् गुरुरित्यभिधीयते

'गु' शब्द अन्धकार का प्रतीक है. 'रु' का अर्थ है 'रुद्ध करने वाला' अथवा हटाने वाला. जो अन्धकार को हटा दे, वही गुरु है. ऐसे ही गुरुओं की गुरु-शिष्य परम्परा जहां पल्लवित हो, वह स्थान गुरुकुल है.


नवगुरुकुल के विद्यार्थियों द्वारा इसी परिपूर्णता की प्राप्ति, ज्ञानी, तेजस्वी, चैतन्यमय एवं ऋषितुल्य गुरुओं के आलोकदान उनके जीवन का प्रकाश, विद्यार्थियों की नव-नवोन्मेषशालिनी प्रतिभा एवं मेधा का जागरण, यही है 'नवगुरुकुल' का कार्य.


  1. यह अर्थ 'जितेन्द्र' द्वारा बताया गया.